डोकलाम पर नया खुलासा: युद्ध के मूड में था चीन


नई दिल्ली/बीजिंग: डोकलाम विवाद अब भले ही सुलझ चुका है और भारत-चीन अपने कड़वाहट भरे रिश्ते को पीछे छोड़ आगे बढ़ रहे हैं। लेकिन उस समय चीन युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार था। चीन ने 12 हजार सैनिक, 150 टैंक और आर्टिलरी बंदूकें चुम्बी घाटी में तैनात कर रखी थीं। इन सभी बातों का खुलासा हुआ है नितिन गोखले की किताब सिक्योरिंग इंडिया द मोदी वेः पठानकोट, सर्जिकल स्ट्राइक एंड मोर में। किताब में दावा किया गया है कि डोकलाम विवाद शुरू होने से करीब 1 महीने पहले ही चीन ने सिक्किम के चुंबी घाटी के करीब अपनी सेना तैनात कर दी थी। चीन युद्ध के पूरे मूड में था।

डोकलाम की तस्वीरें भी किताब में
किताब में मानवरहित विमानों (UAV) के जरिये ली गई डोकलाम की तस्वीरें भी शामिल की गई हैं, जिससे पता चलता है कि यहां मई के तीसरे हफ्ते में ही तनाव शुरू हो गया था लेकिन चीन ने 26 जून को इसका सार्वजनिक ऐलान किया। डोकलाम विवाद करीब 73 दिनों बाद ही सुलझा।

मोदी-डोभाल का बयान
किताब में डोकलाम विवाद के हर घटनाक्रम की जानकारी के साथ ही भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, सेना के वरिष्ठ अफसरों और नरेंद्र मोदी सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के बयान भी हैं। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक जब दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा तो चीन ने भारत के सिक्किम के सामने स्थित अपनी चौकी पर सैनिकों की संख्या बढ़ा दी जिसके बाद भारतीय सेना ने भी सैनिकों की संख्या बढ़ा दी थी।

अन्‍य ख़बरें

सुविचार

Total Visit: 289838